ग्रामीण अंचलों में आखिर कब तक यूहीं आदमखोर जानवरों का चलता रहेगा खेल प्रशासन ठोस नीति बनाकर कदम क्यो नही उठा रही।

0
178

जिला-सिवनी ब्यूरो चीफ
अनिल दिनेशवर

ग्रामीण अंचलों में आखिर कब तक यूहीं आदमखोर जानवरों का चलता रहेगा खेल प्रशासन ठोस नीति बनाकर कदम क्यो नही उठा रही
तेंदुए ने पिता के सामने ही 17 वर्षीय बालिका के ऊपर किया हमला, स्पॉट में बालिका कीमौत
अक्टूबर 17, 2021
सिवनी जिले के कान्हीवाड़ा वनपरिक्षेत्र के पांडीवाड़ा गांव से लगे जंगल में पिता जंगलू यादव के साथ मवेशी चराने गई एक 17 वर्षीय किशोरी रवीना यादव को तेंदुए ने दबोचकर करीब डेढ़ सौ मीटर दूर पहाड़ी क्षेत्र के जंगल में ले गया। तेंदुए के हमले से किशोरी की मौत हो गई।

किशोरी का लहुलुहान शव ग्रामीणों को मिला है। सूचना पर उगली थाना पुलिस हित केवलारी व कान्हीवाड़ा क्षेत्र का वन अमला भी मौके पर पहुंच गया और किशोरी के शव का पीएम कराकर स्वजनों को सौंप दिया गया है। मृतक के परिवार के 10 हजार रुपये की तत्कालिक सहायत वन विभाग द्वारा उपलब्ध कराई गई है। वहीं 4 लाख रुपये की आर्थिक मदद उपलब्ध कराने प्रकरण तैयार कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

पिता पर झपटने का किया प्रयास – किशोरी को दबोचकर तेंदुआ करीब डेढ़ सौ मीटर दूर पहाड़ी क्षेत्र के जंगल में ले गया। जिसका पीछा करते हुए पिता जंगलू भी किशोरी को बचाने मौके पर पहुंच गया जहां खूंखार तेंदुए ने जंगलू पर भी झपटने की कोशिश की। घबराए जंगलू ने इसकी जानकारी मोबाइल पर गांव के ग्रामीणों को दी। जिसके बाद ग्रामीण बड़ी संख्या में एकत्रित होकर मौके पर पहुंचे। तब तक तेंदुआ किशोरी के शव के पास ही डटा रहा। ग्रामीणों का हुजूम देखकर शव छोड़कर जंगल लौट गया। तलाशी के दौरान जंगल में किशोरी का शव लहुलुहान हालत में मिला। तेंदुए ने किशोरी के गर्दन का पिछला कुछ हिस्सा खा लिया था। फिलहाल वन अमले ने क्षेत्र में गश्ती बढ़ा दी है।

एक माह पहले महिला की हमले में हुई थी मौत- गौरतलब है कि 15 सितंबर को पांडीवाड़ा से कुछ दूरी पर स्थित वन विकास निगम केवलारी रेंज की मोहगांव बीट के जंगल में लकड़ी बीनने गई 50 वर्षीय आदिवासी महिला रंजीता पति मोहब्बत सिंह पर तेंदुए ने हमला कर दिया था। जिससे महिला की मौके पर मौत हो गई थी। वहीं अन्य दो महिलाएं व एक पुरुष मौके से अपने जान बचाकर किसी तरह भागने में कामयाब हुए थे। तेंदुए ने महिला के शव का कुछ हिस्सा भी खा लिया था। एक माह में दूसरी बार तेंदुए के हमले से मौत की घटना सामने आई है। इससे क्षेत्रवासियों में डर और भय का माहौल है। वहीं वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि तेंदुए को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

10 अक्टूबर को लगाया पिंजरा, नहीं पकड़ में आया तेंदुआ- पांडीवाड़ा से कुछ दूरी पर स्थित कातोली गांव के जंगल के आसपास पालतु मवेशियों के शिकार की घटनाएं बीते एक माह से लगातार सामने आ रही हैं जिसकी शिकायत क्षेत्रवासियों द्वारा वन अधिकारियों से की गई थी। इसके बाद कातोली क्षेत्र में हिंसक वन्यप्राणी को पकड़ने के लिए 10 अक्टूबर को पिंजरा जंगल में लगाया गया था लेकिन छह दिनों बाद भी तेंदुआ अथवा हिंसक वन्यप्राणी नहीं पकड़ा जा सका है। जबकि 16 अक्टूबर को तेंदुए ने एक 17 वर्षीय किशोरी को अपना शिकार बना लिया। वन अधिकारियों का कहना है कि क्षेत्र में हो रही घटनाओं को देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर सूचित किया गया है। जल्द ही तेंदुए को पकड़ने की कार्रवाई की जाएगी।

इस मामले में केके निनामा उपवनमंडल अधिकारी केवलारी दक्षिण सामान्य वनमंडल ने बताया कि पांडीवाड़ा के जंगल में तेंदुए के हमले से 17 वर्षीय किशोरी की मौत हुई है। पीएम के बाद शव स्वजनों को सौंप दिया गया है। मृतक के परिवार को 10 हजार रुपये की तात्कालिक सहायता उपलब्ध करा दी गई है। पांडीवाड़ा से लगे कुछ गांव में लगातार पालतु मवेशियों के शिकार की घटनाएं सामने आ रही हैं। इसे देखते हुए 10 अक्टूबर को कातोली क्षेत्र के जंगल में पिंजरा लगा दिया गया था। तेंदुए को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here