दमोह।मछली पकड़ते समय युवक को मिली पत्थर की मूर्ति,नदी बनी आस्था का केंद्र

0
210


जनपद जबेरा की ग्राम पंचायत बनवार के समीप से बहने वाली जिले की सबसे बड़ी व्यारमा नदी में विगत दिनों मछली पकड़ रहे युवक को पत्थर की एक मूर्ति मिली। युवक को मूर्ति मिलने की खबर क्षेत्र में आग की तरह क्षेत्र में फैल गई और बड़े घाट पर श्रद्धा का भाव उमड़ पड़ा। श्रद्धालु मूर्ति स्थापना स्थल के समीप ही पूजन एवं भजन करने लगे। प्राप्त जानकारी अनुसार बनवार निवासी नोनेलाल बर्मन ने रोज की तरह मंगलवार को भी व्यारमा नदी के बड़े घाट पर स्थित एक कुंड में मछली पकड़ने का जाल डाला तो जाल एक पत्थर में फंस गया,जिसे निकालने के लिए युवक ने हाथ से पत्थर को हटाया चाहा। परंतु जैसे ही युवक ने पत्थर को पलट कर देखा तो उसमें एक आकृति बनी हुई थी,युवक ने पत्थर पर आकृति देखकर पास से ही गुजर रहे एक पंडा को बुला लिया। जब पंडा ने मूर्ति को देखा तो वह युवक से बोला कि यह मूर्ति गंगा मैया की है। इसके बाद पंडा उस मूर्ति को अपने घर ले गया परंतु रात्रि में पंडा को स्वपन में आया कि जहां से मूर्ति लेकर आए हो उसे वापस उसी स्थान पर स्थापित कराओ। इसकी जानकारी पंडा ने सुबह उस युवक को दी। पंडा के स्वपन की बात सुनकर युवक ने धूमधाम से मूर्ति को गांव के सभी प्रमुख मंदिरों में घुमाया और उसके बाद गुरुवार को व्यारमा नदी के बड़े घाट पर ले जाकर पूर्ण विधि-विधान से मूर्ति की स्थापना कराई। श्रद्धालुओं का मानना है कि यह गंगा मैया की मूर्ति है। और नदी के जिस कुंड में मूर्ति मिली है अगर कोई भी बीमार व्यक्ति उस कुंड में पांच बार पूर्णिमा एवं अमावस्या पर स्नान कर ले तो उसके सभी रोग दूर हो जाएंगे फिलहाल बिहार में नदी के बड़े घाट पर श्रद्धालु भक्तों का माता के दर्शन के लिए भीड़  नजर आ रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here