सेलुआ,सिवनी बालाघाट टोलनाका पर बैठे आंदोलनकारियाें को पुलिस ने वेन में भरकर थाना ले गई।

0
212

जिला-सिवनी ब्यूरो चीफ
अनिल दिनेशवर
सेलुआ,सिवनी बालाघाट टोलनाका पर बैठे आंदोलनकारियाें को पुलिस ने वेन में भरकर थाना ले गई

मध्यप्रदेश का जिला सिवनी चार दिशा की तरफ से टोल नाकों से घिरा हुआ है जिला सिवनी मुख्यालय में सिवनी से बालाघाट मार्ग पर सेलुआ टोल टेक्स में टोल वसूली को लेकर आंदोलन जारी है। सिवनी के वाहनों को टोल में छूट नहीं दिए जाने से सिवनी की जनता नाराज है मंगलवार 26 अक्टूबर से सेलुआ टोल नाके पर धरना शुरू कर दिया गया है। बरघाट विधायक ककोडिया जी के साथ विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने धरने पर बैठकर टोल बंद करने की मांग की है।

सिवनी से बालाघाट मार्ग पर टोल वसूली बंद कराने 25 अक्टूबर को सिवनी संघर्ष समिति का प्रतिनिधि मंडल सेलुआ टोल पंहुचा था जहाँ बरघाट विधायक अर्जुनसिंह काकोड़िया की उपस्थिति में टोल नाका संचालित करने वाली कंपनी के प्रबंधक से चर्चा की गई।टोल नाका कंपनी के प्रबंधक ने बताया कि इस टोल के संबंध में किसी भी वाहन के लिए कोई राहत नही दी जाएगी।शुल्क सभी से लिया जाएगा। ट्रांसपोर्ट यूनियन के जिला अध्यक्ष एजाज खान ने बताया कि सिवनी संघर्ष समिति ने लोकल वाहनों को भी छूट नहीं दिए जाने के कारण मंगलवार से सेलुआ टोल पर सिवनी बालाघाट मार्ग के मरम्मत कार्य का टोल बंद कराने धरना शुरू कर दिया है।इसमें जिला कांग्रेस सहित ट्रक, बस, लोकल ट्रक, ट्रांसपोर्ट, डम्पर, जेसीबी, बरघाट टेक्सी, निजी टेक्सी, आटो यूनियन शामिल हो रहे हैं।

मंगलवार की दाेपहर तक धरना आंदोलन तेज हो गया। विरोध दर्ज कराने विभिन्न संगठनों के लोग सड़क पर बैठ गए।इससे आवागमन प्रभावित होने के कारण टोल के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई।वहीं मौके पर डूंडासिवनी पुलिस बल के साथ पहुंच गई।डूंडासिवनी थाना प्रभारी देवकरण डहेरिया ने बताया कि विरोध करने वालों से बात की जा रही है।

सेलुआ में टोल वसूली होने के बाद से ही इंटरनेट मीडिया पर सिवनी जिले के नागरिकों का गुस्सा साफ तौर पर दिखाई दे रहा है। जिले के नागरिकों का कहना है कि सिवनी जबलपुर सड़क पर अलोनिया (बंडोल) में एनएचएआई का टोल नाका अवैध चल रहा है। इसे लखनादौन के पास मड़ई में स्थानांतरित किया जाना चाहिए। इसके अलावा छिंदवाड़ा मार्ग पर फुलारा का टोल नाका जिले की सीमा से उठकर छिंदवाड़ा जिले में संचालित किया जाना चाहिए। इतना ही नहीं सेलुआ का टोल नाका भी सिवनी बालाघाट की सीमा पर बेहरई घाट के आगे स्थानांतरित किया जाना चाहिए, ताकि सिवनी जिले में सिवनी से छपारा, बरघाट, धारना बेहरई, फुलारा आदि आने जाने वाले लोगों को टोल के अनावश्यक भार से बचाया जा सके।

आंदोलन कर रहे कांग्रेस व विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने कहा कि भाजपा सांसद, विधायक आैर भारतीय जनता पार्टी के नेताआे का किसी भी कार्यक्रम में काले झंडे दिखाकर विरोध किया जाएेगा। मौके पर एसडीएम, तहसीलदार, एसडीआेपी बरघाट, एमपीआरडीसी के अधिकारी दल बल सहित भारी संख्या में उपस्थित रहें। सिवनी संघर्ष समिति द्वारा ज्ञापन सौंपते समय उपस्थित अधिकारियाें से प्रश्न किया गया कि इस संबंध में तीसरी बार ज्ञापन दिया जा रहा है आपकी आेर से कोई सकारात्मक जवाब नही दिया जाता।बालाघाट.सिवनी कलेक्टर से बात कर, सिवनी बालाघाट का सयुक्त दौरा कर वह खुद आकल्न करें कि क्या यह सड़क टोल वसूलने लायक है। आंदोलन को बढ़ता देख पुलिस ने आंदोलनकारियाें को पुलिस वेन में भरकर बरघाट रोड़ स्थित गोदाम ले गई। उन पर मामला कायम कर बरघाट एसडीएम, तहसीलदार की उपस्थिती में रिहा किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here