दहेज के नाम पर कब तक मरती रहेंगी बेटियां कौन है इस हत्या का जिम्मेदार कहां गया महिला सशक्तिकरण

0
254

*दहेज के नाम पर कब तक मरती रहेंगी बेटियां कौन है इस हत्या का जिम्मेदार कहां गया महिला सशक्तिकरण

*

आए दिन लगातार बेटियों की हत्याएं हो रही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पहले बेटी को बचाओ उसके पढ़ाओ और शादी के बाद भी बचाओ कब तक बेटियों को बचाते रहेंगे माता-पिता

जी हां ताजा मामला उत्तर प्रदेश के अंतर्गत आने वाले अमेठी जिले के कोतवाली मोहनगंज के ग्राम सभा रामनगर में हौसला प्रसाद साहू का घर था उनकी एक बेटी थी जिसका नाम नीलम था पिता ने अपनी बेटी को पढ़ा लिखाकर बड़ा किया उसके बाद उसकी शादी 2016 में ग्रामसभा काशो खास थाना हरचंदपुर के रहने वाले रावेंद्र उर्फ अजय कुमार पुत्र राम लखन के साथ किया था जहां पर लड़की के माता-पिता ने बताया कि शादी के कुछ दिनों बाद ही ससुराल वाले हमेशा दहेज को लेकर लड़की को मारते पीटते थे और घर से भगा देते थे जिसके पास 4 साल की एक बच्ची है जिसका नाम है आराध्या मामला शादी के बाद से शुरू हो गया था दहेज मांगने का ससुराल वाले के ऊपर लड़की के माता-पिता ने एक बुलेट बाइक और ₹100000 कैस मांगने के बारे में बताएं कि ससुराल वाले ऐसा मांगते थे नहीं देने पर लड़की को मारते पीटते थे कई बार उसके शरीर पर कई तरह के जख्म भी थे उसके बाद अभी लॉक डाउन के बाद में लड़की के ससुराल वालों ने लड़की को बुरी तरह पीटा और मारने के बाद उससे जेवर तथा कपड़े ले लिया उसके बाद लड़की को घर से भगा दिया और कहा कि यहां दोबारा मत आना नहीं तो तुम्हें जान से मार दूंगा उसके बाद लड़की अपने मायके आई अपने माता-पिता को इस बारे में बताया अभी हाल ही में सितंबर माह में माता पिता ने ससुराल वालों के खिलाफ दहेज मांगने व मारने पीटने के आरोप में महिला थाना रायबरेली में शिकायत दर्ज करवाई थी इस बात पर नीलम का पति अजय कुमार आया और लड़की को लेकर गया लड़की ने थाने पर कहा कि मैं दूसरी शादी नहीं करूंगी मैं अपने घर को जाऊंगी और उसके पति ने यह भी कहा कि मैं इसको दोबारा मारूंगा नहीं सही से रखूंगा उसके बाद उसका पति अपने घर लेकर गया कासो खास जहां पर एक महीना बीतने के बाद 2 तारीख को फिर से दहेज को लेकर उस लड़की को मारा पीटा जिसके पास एक छोटी सी लड़की थी आराध्या और घर से भगा दिया यहां तक की धमकी दी इस बार आना तो बुलेट और ₹100000 लेने के बाद ही वापस आना तुम्हें जान से मार दूंगा। किसी तरह जैसे तैसे लड़की अपने मायके आई और अपने माता-पिता को इस बारे में बताया तथा हमेशा परेशान रहती थी घरवालों ने लड़की को समझाया कि आप परेशान मत हो आप की दूसरी शादी कहीं और कर देंगे लेकिन लड़की ने कहा कि मुझे शादी नहीं करनी मुझे मुझे उसी घर में जाना है उसके बाद 5 तारीख को लगभग 10:30 बजे जब नीलम की बेटी आराध्या रात में अचानक रोने लगी उसकी नानी ने कमरे में जाकर देखा तो वहां पर उसकी बेटी नीलम नहीं थी खाट उसकी खाली पड़ी थी परिवार के लोगों ने उसे ढूंढना शुरू किया ढूंढते हुए उनके गांव के बगल में नहर है शारदा सहायक खंड जौनपुर शाखा गांव के ही एक ओमप्रकाश नाम के आदमी ने बताया कि आपकी लड़की नहर की तरफ गई है जब परिवार वाले व गांव की कुछ लोग नहर की तरफ गए तो उन्होंने वहां पर जाकर देखा पुल के पास लड़की के पायल और चप्पल रखे हुए थे परंतु वहां पर बेटी नहीं थी इस पर परिवार वालों को डाउट हुआ कि शायद लड़की नहर में कूद गई है तुरंत रात में ही थाना मोहनगंज फोन करके इस बात की सूचना दी गोताखोर सुबह आए उन्होंने पूरी कोशिश की लड़की को ढूंढने की लड़की नहीं मिली दूसरे दिन तिलोई फाटक के पास लड़की की लाश अटकी हुई मिली और पुलिस की मौजूदगी में पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया आने के बाद लड़की के परिवार वालों ने लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया है लड़की के माता-पिता ने बताया की बेटी ससुराल वालों से परेशान थी उसको मारपीट कर घर से भगा दिया था जिसकी वजह से मेरी बेटी आत्महत्या की क्योंकि ससुराल वालों ने कहा था कि दुबारा आई तो जान से मार दूंगा पुलिसवालों माता पिता ने लिखित तहरीर दी है 7 दिन बीतने के बाद भी अभी तक नहीं हुई कार्यवाही आखिर कब जागेगा अपनी कुंभकरण की नींद से प्रशासन

दहेज लोभी दहेज के नाम पर बहन बेटियों को मारते रहेंगे कब होगी इस पर कार्रवाई कौन होगा 4 साल आराध्या के पालन पोषण का जिम्मेदार। देखना यह है कि कोतवाली मोहनगंज तथा कोतवाली हरचंदपुर इस मामले में क्या एक्शन लेती है।

ब्यूरो रिपोर्ट सर्वेश तिवारी अमेठी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here