0
276

इंडियन टीवी न्यूज़ चैनल से

ब्यूरो चीफ- लखन ठाकुर

 

दमोह – शहर में आए दिन फांसी, आत्महत्या, डकैती, हथियार तस्करों जैसी घटाएं दिन व दिन बड़ रही है। हालाकि कुछ हद तक तो पुलिस इन घटनाओं की तह तक जाकर आरोपियों को पकड़ने में सफ़ल होती है। लेकिन कुछ घटनाओ के आरोपी व घटनाओं की मुख्य वजह से पुलिस प्रशासन के हांथ अब भी बौने साबित हो रहे हैं। ताजा मामला शहर के कोतवाली थाना शेत्र अंर्तगत आने वाले स्थानीय पीजी कॉलेज की लाइब्रेरी में आज एक लिपिक के द्वारा कॉलेज में ही फांसी लगा कर आत्महत्या कर लिए जाने का मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में लिपिक के पद पर पदस्थ चतुर सिंह उईके के द्वारा कॉलेज की लाइब्रेरी में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिए जाने का मामला सामने आया है।

घटना की जानकारी लगते ही कोतवाली पुलिस व कॉलेज स्टॉफ मौके पर पहुंचा जहां पुलिस की मौजूदगी में लिपिक के शव को उतारा गया। सूत्रों के आधार पर वहीं मृतक के पास से सुसाइड नोट भी मिलने की जानकारी सामने आई है। जिसमे मृतक ने कॉलेज में प्रबंधन द्वारा किए गए भ्रष्टाचारों को उजागर करते हुए। कॉलेज प्रबंधन की पोल खोल दी है। साथ ही कॉलेज में ही पदस्थ जीपी अहिरवार एवं रमेश अहिरवार के ऊपर प्रताड़ना किए जाने के आरोप लगाए है। मृतक चतुर सिंग में सुसाइड नोट में साफ तौर पर यह भी लिखा है की वह परिबार से किसी भी तरह से प्रताड़ित नही था ना ही उसका परिवार से किसी भी तरह का विवाद चल रहा था। वे एक साफ स्वच्छ छवि के कर्मचारी थे। जिन्हें लगातार भ्रष्ट कर्मचारियो के द्वारा विरोध करने पर मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा था। बहरहाल सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस मामले को गंभीरता से लेती है तो अन्य कारणो व कॉलेज प्रबंधन के अन्य भ्रष्टाचार के कार्यों का भी खुलासा किए जाने ले उम्मीद की जा सकती है। हालाकि यह पुलिस जांच का विषय है। घटना की संक्षिप्त जांच के बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर शव के लिए पोस्टमार्टम के लिए रवाना कर दिया है साथ ही मामले की अग्रिम कार्यवाही शुरु कर दी है।

*ब्यूरो चीफ- लखन ठाकुर जिला दमोह मध्य प्रदेश*

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here