Follow Us

श्रवण कुमार ने वरिष्ठ पत्रकार सुशील तिवारी के ऊपर फर्जी मुकदमा कराया दर्ज

श्रवण कुमार ने वरिष्ठ पत्रकार सुशील तिवारी के ऊपर फर्जी मुकदमा कराया दर्ज

सोनभद्र समाचार ब्यूरोचीफ नन्दगोपाल पाण्डेय

वरिष्ठ पत्रकार के ऊपर फर्जी एससी/एसटी मुकदमा दर्ज होने पर स्थानीय पत्रकारों में आक्रोश ब्याप्त

सोनभद्र। पिपरी थाना अंतर्गत वरिष्ठ पत्रकार सुशील तिवारी के ऊपर फर्जी एफ.आई.आर. कराया गया दर्ज। क्राइम नंबर-85 सन 2024 थाना- पिपरी धारा- 323, 427, 452, 504, 506, 3(1) (द)अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (नृशंसता निवारण) अधिनियम, 1989 (संशोधन 2015), 3(1)(घ), अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (नृशंसता निवारण) अधिनियम में फर्जी कराया गया दर्ज।
बताते चले कि जज एससी एसटी कोर्ट सोनभद्र में प्रार्थना पत्र संख्या 2024 श्रवण कुमार बनाम सुशील तिवारी आदि। याचिकाकर्ता: श्रवण कुमार पुत्र स्वर्गीय बैजनाथ राम बाथम, 46, निवासी धोबियान टंकी रेनुकूट, थाना-पिपरी, जिला-सोनभद्र, अधिवक्ता के माध्यम से। याचिकाकर्ता 1. सुशील तिवारी पुत्र गौरी शंकर तिवारी, उम्र 47 वर्ष, निवासी मुरलीगढ़, विद्युत विभाग कार्यालय के पीछे, वार्ड नंबर 08 पिंपरी, थाना पिपरी, जिला सोनभद्र। 2. दो अन्य व्यक्ति अज्ञात सूरत पहचान पता अज्ञात आवेदन पत्र अंधरा-156 (3) सीआरपीसी महोदय, अनुरोध है कि याचिकाकर्ता उपरोक्त पते का निवासी है और अनुसूचित जाति (दुसाध) का व्यक्ति है। घटना दिनांक 20.04.2024 को शाम करीब 7:00 बजे की है। याचिकाकर्ता की पहचान सुशील तिवारी पुत्र गौरी शंकर तिवारी, निवासी मुरलीगढ़, बिजली विभाग के कार्यालय के पीछे, वार्ड नंबर 08 पिपरी, थाना पिपरी, जिला सोनभद्र और दो अन्य व्यक्तियों के रूप में की गई। माँ और बहन की एमडीडी का इरादा – बदसूरत गाली देते हुए कहा कि दुसाध जाति मगहर को चोदो साले तुम्हारी औकात क्या है तुम अपनी जाति के नेता बनो चुनाव आने दो तुम्हारे नेता गिरी को हटा देंगे। प्रार्थी को जान से मारने की नियत से सुशील तिवारी ने उसका गला दबा दिया और उपरोक्त सभी लोग उसे लात घूसों, घर में घुसकर चप्पलों से पीटने लगे. याचिकाकर्ता ने किसी तरह अपनी जान बचाने की कोशिश की. उपरोक्त व्यक्तियों ने याचिकाकर्ता के घर में प्रवेश किया और याचिकाकर्ता का टीवी भी तोड़ दिया। याचिकाकर्ता के शोर मचाने पर एसडी अंग्रेजी अस्पष्ट 2/05/2024 हस्ताक्षर अस्पष्ट याचिकाकर्ता की पत्नी और बच्चे तथा आसपास के कई लोग बचाव में आ गए याचिकाकर्ता की जान बचाई गई। याचिकाकर्ता को उसकी चोटों के कारण उपरोक्त व्यक्तियों द्वारा इलाज कराया गया। आराम न मिलने पर उसे 26.04.2024 को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र म्योरपुर ले जाया गया। घटना की सूचना अगले दिन रेनुकूट थाने में दी गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई दिनांक 25.04.2024 को पंजीकृत डाक द्वारा पुलिस अधीक्षक, सोनभद्र को प्रेषित किया गया परन्तु आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गयी। अतः मेरा आपसे अनुरोध है कि उपरोक्त परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए संबंधित धाराओं के तहत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करने और जांच करने के लिए SHO पिपरी को उचित आदेश पारित करें। दिनांक:-02/05/2024 एच याचिकाकर्ता/अधिवक्ता श्रवण कुमार द्वारा पत्रकार के ऊपर फर्जी मुकदमा दर्ज कराए है जिसको लेकर स्थानी पत्रकारों मे रोष ब्याप्त है।

Leave a Comment