Follow Us

25 साल बाद भंडारा गोंदिया लोकसभा मे जिता पंजा. काँग्रेस कार्यकर्ताओ ने फटाके, मिठाई, और नाच कर मनाया जीत का जशन.

25 साल बाद भंडारा गोंदिया लोकसभा मे जिता पंजा. काँग्रेस कार्यकर्ताओ ने फटाके, मिठाई, और नाच कर मनाया जीत का जशन.

महाराष्ट्र  काँग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की साख लगी थी दाव पर

महाराष्ट्र काँग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना भाऊ पटोले ने भंडारा गोंदिया लोकसभा सीट जीत कर अपना लोहा मनवाया.पटेल पर भारी पडे पटोले

गोंदिया – इतिहास गव्हा है भंडारा गोंदिया लोकसभा सीट से संविधान निर्माता डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने यहाँ से चुनाव लडा था और चुनाव हार  गये थे, अशोक मेहता भी यहाँ से चुनाव लडे और हार गये, श्रीकांत जिचकार भी यहाँ काँग्रेस से ही चुनाव लडे और bjp से हार गये थे. लेकिन आज 25 साल बाद काँग्रेस ने अपना अस्तित्व फिर कायम किया. जैसे ही आज लोकसभा चुनाव का रिझल्ट आया काँग्रेस कार्यकर्ताओ मे ख़ुशी की लहर दौड आयी सभी कार्यकर्ता ख़ुशी मे झुमने लगे ढोल ताशे पर नाचणे लगे, फटाके फुटणे लगे और कार्यकर्ता मिठाई बाट कर ख़ुशी मनाने लगे. यह सीट पारंपरिक bjp की थी लेकिन यहाँ पर राष्ट्रवादी ने भी कब्जा किया था यहाँ से प्रफुल पटेल भी राष्ट्रवादी के उमेदवार के तौर पर लोकसभा मे भंडारा गोंदिया का नेतृत्व कर चुके है. यहाँ राष्ट्रवादी और काँग्रेस का गटबंधन होणे से हर वक्त राष्ट्रवादी को ही सीट मिलने के कारण काँग्रेस का पंजा लोग भूल से गये थे. लेकिन इस बार महाराष्ट्र काँग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नानाभाऊ पटोले इन्होने अपनी साख दाव पर लगाई और काँग्रेस के लिये यहाँ से तिकट लाने मे सफल हुये और अपने ताकत के बालबुते इस सीट पर अपने उमेदवार डॉ. प्रशांत पडोळे को विजयी बनाकार ही दम लिया.
अब दोनो जिल्हे मे यह कहा जा रहा है की पटेल पर पटोले भारी पड गये है. क्यूकी राष्ट्रवादी के राष्ट्रीय नेता कहलाने वाले प्रफुल पटेल ने भी जी जान से अपने कार्यकर्ताओ को bjp के पक्ष मे कामं करने और मतदान भी करने को कहा था भंडारा गोंदिया जिल्हे मे जगह जगह सभाये भी ली थी, और तो और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह ने भी अपनी ताकत bjp के उमेदवार को जितने लगा दी थी, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री, देवेंद्र फडणवीस ने भी विशेष ध्यान दिया क्यूकी यहाँ नानाभाऊ पटोले को नीचा दिखाना था लेकिन हुआ इसके विपरीत नानाभाऊ और काँग्रेस के कार्यकर्ताओ ने नानाभाऊ का भरपूर साथ दिया जी जान लगाकर कार्यकर्ताओ ने रात दिन मेहनत कर अपने नेता के मान सन्मान को बरखरार रखने के लिये मेहनत की और आखिरकर काँग्रेस को जीत दिलाई, पुराणे काँग्रेस के कार्यकर्ताओ ने भी इस बार भंडारा गोंदिया दोनो जिल्हो के कार्यकर्ताओ ने इस चुनाव मे बड चड कर हिस्सा लिया इस तरह 25 साल बाद यहाँ काँग्रेस का परचम लहराया.

प्रवीण शेंडे
गोंदिया.

Leave a Comment