Follow Us

केंद्र ने बंगाल के लिए मंजूर किये 860.35 करोड़ रुपये

कौशिक नाग-कोलकाता केंद्र ने बंगाल के लिए मंजूर किये 860.35 करोड़ रुपये केंद्रीय आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने स्वच्छ भारत मिशन -शहरी 2.0 (एसबीएम-यू) के तहत पश्चिम बंगाल के लिए 860.35 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को मंजूरी दे दी है. एसबीएम-यू (2014-19) के पहले चरण के दौरान पश्चिम बंगाल को कुल 911.34 करोड़ रुपये का फंड आवंटित किया गया था, जिसे एसबीएम-यू 2.0 (2021-26) में 1.5 गुना बढ़ाकर 1449.30 करोड़ रुपये कर दिया गया है. मंत्रालय अपशिष्ट प्रबंधन और स्वच्छता में महत्वपूर्ण प्रगति हासिल करने के लिए पश्चिम बंगाल के साथ मिलकर काम कर रहा है. राज्य में 118 पुरानी कूड़ा डंपिंग साइटें हैं, जिनमें केवल पांच प्रतिशत कूड़े का निस्तारण किया गया है. 1987 से कोलकाता का मुख्य नगरपालिका डंपिंग ग्राउंड धापा लैंडफिल जैव-खनन और बायोरेमेडिएशन से गुजर रहा है, जो पुराने कचरे को साफ करने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) द्वारा चुने गए तरीके हैं और जिससे कचरे से उपयोगी सामग्री निकाली जाती है. पश्चिम बंगाल के शहर प्रतिदिन लगभग 4,046 टन ठोस कचरा उत्पन्न करते हैं. एसबीएम-यू 2.0 के तहत राज्य ने कचरे की इस विशाल मात्रा के प्रबंधन के लिए परियोजनाओं का प्रस्ताव दिया है जिसमें 4800 से अधिक खाद संयंत्र और 4500 मेटिरियल रीकवरी फैसिलिटी (एमआरएफ) शामिल हैं. पर्यावरण की दृष्टि से सुरक्षित तरीके से ठोस कचरे के निपटान की सुविधा के लिए राज्य द्वारा 2216 सुरक्षित लैंडफिल सुविधाएं (एसएलएफ) प्रस्तावित की गयी हैं. 460 कंप्रेस्ड बायो-गैस (सीबीजी) प्लांट्स के लिए मंत्रालय की मंजूरी के साथ राज्य को अपशिष्ट से ऊर्जा के लिए एक बड़ा प्रोत्साहन मिला है. 100 से अधिक यूएलबी में पुराने अपशिष्ट डंपसाइटों के निवारण के लिए एसबीएम-यू 2.0 के तहत 217 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को मंजूरी दी गयी है. स्वच्छता और अपशिष्ट प्रबंधन के लिए धन का निर्बाध प्रवाह बनाये रखने के लिए, भारत सरकार ने 209 करोड़ रुपये की अतिरिक्त किश्त जारी की है, ताकि राज्य द्वारा प्रस्तावित परियोजनाओं को तेजी से पूरा किया जा सके. स्वच्छ भारत मिशन-शहरी के तहत 2026 तक राज्य के सभी शहरों में अपशिष्ट प्रसंस्करण संयंत्र लगाने का लक्ष्य है.

Leave a Comment