Follow Us

चौमुखनाथ में वैसाखी सोमवार को भक्तों ने किया सदाशिव का जला अभिषेक

चौमुखनाथ में वैसाखी सोमवार को भक्तों ने किया सदाशिव का जला अभिषेक

पन्ना जिले का सबसे शिवजी का प्राचीन मंदिर नचना कुठारा में चौमुखनाथ का महादेव के नाम से प्रसिद्ध है चौमुखनाथ मंदिर के गर्भ गृह में भगवान शिव की चारमुखी प्रतिमा इस्थापित है भगवान शिव के चारों मुखों के अलग अलग स्वरूप है अर्धनारीश्वर दूल्हे समाधी विषपान करने के चोरो मुखों में वर्णित है
वैसाख माह के सोमवार को चौमुखनाथ महादेव मंदिर में सैकड़ों की संख्या में लोगों ने भगवान सदाशिव का जला अभिषेक कर चन्दन‌ पुष्प इत्र धूप दीप से पूजा अर्चना कर धर्म लाभ लिया एवं मंदिर परिसर में कथा भंडारे आयोजित किए
।भगवान विष्णु का अतिप्रिय बैसाख माह भगवान शिव की पूजा के लिए भी विशेष माना गया है दिन भगवान शिव‌ को समर्पित है. ऐसे में कहा जाता है कि अगर सोमवार को भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा की जाए तो सारे कष्टों से मुक्ति मिलती है और सभी मनोकामना पूरी होती है. शिव सदा अपने भक्तों पर कृपा बरसाते हैं. भगवान विष्णु का अतिप्रिय वैशाख/बैसाख माह भगवान शिव की पूजा के लिए भी विशेष माना गया है. माना जाता है कि इस महीने में भगवान शिव की पूजा करने से वह जल्द खुश होकर अपने भक्तों को मनचाहा वर देते हैं. वैसे तो शिव पूजा सावन और कार्तिक महीने के सोमवार को करना भी विशेष माना गया है लेकिन वैशाख माह के सोमवार में भगवान शिव को प्रसन्न करना काफी आसान माना
चौमुखनाथ महादेव मंदिर छटी से .7 वीं शताब्दी का बताया जा रहा इस, मंदिर परिसर में एएसआई द्वारा दो माह से खुदाई करवाई जा रही है यह खुदाई कार्य मजदूरों द्वारा एएसआई की देख रेखा में हाथों से बारीक औजारों द्वारा किया जा रहा है
हमारे पन्ना ब्यूरो ने बताया की खुदाई कार्य की जगह रस्सी से छोटे छोटे सर्किल बनाए गए हैं उन्ही सर्किल में खुदाई की जा रही है दो माह कि खुदाई में एक शिवलिंग मिला है जो आधे जमीन के अंदर है आधे खुदाई करके निकाल लिया गया है शिवलिंग खुदाई से निकाला भाग सलामत है शिवलिंग में किसी प्रकार से खंडित नहीं है और एक कलाधारी मिली है जो टुट कर दो भागों में हो चुकी है सात आठ सर्किल में हुई खुदाई में प्राचीन इस्मारक मंदिर जैसे दिवाले दिखाई दे रही है व मंदिर के छोटे अनेकों छोटे अवशेष मिले हैं अभी पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई कार्य जारी है खुदाई का श्रेत्र बढ़ता जा रहा है एएसआई के अनुसार भोतिक अवशेषों का मिलना खुदाई कार्य में निरंतर जारी है चौमुखनाथ में भू गर्भ की जानकारी के लिए एएसआई द्वारा निरंतर दो माह से खुदाई कार्य करवाया जा रहा है अब देखना यह है की एएसआई को कोन कोन से प्राचीन अवशेष खुदाई में हासिल हो रहें हैं

Leave a Comment