Follow Us

हरिद्वार पुलिस ने सुनसान इलाकों में आंख में मिर्ची पाउडर डालकर लूट करने वाले 03 शातिरों को पकड़ा, भेजा जेल

हरिद्वार पुलिस ने सुनसान इलाकों में आंख में मिर्ची पाउडर डालकर लूट करने वाले 03 शातिरों को पकड़ा, भेजा जेल

 

लक्सर क्षेत्र में घटित लूट की दो (कुल 3) घटनाओं का पुलिस ने किया खुलासा
फाइनेंस कंपनी का बी कोम पास पूर्व कर्मी निकला मास्टरमाइंड
गलत सोहबत, ऊंची महत्वाकांक्षा, नशे की आदत ने बनाया अपराधी

लूट के पैसों से खरीदा नया दोपहिया, लूटे गए जेवरात, नगदी आदि जब्त
पत्रकार वार्ता में एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह द्वारा किया गया पूरे घटनाक्रम का खुलासा
कहते हैं वो व्यक्ति बड़ा खुशनसीब होता है जिसका फ्रेंड सर्कल बेहतर होता हैं लेकिन अगर संगत गलत दोस्तों की हो जाए तो ऐसे व्यक्ति को गर्त में जाने से कोई रोक नहीं सकता।
ऐसा ही हुआ लक्सर क्षेत्र में, जहां दोस्तों की गलत संगत ने उनको जेल पहुंचा दिया।
जनपद हरिद्वार में देहात क्षेत्र काफी बड़े क्षेत्रफल में फैला है जिसमें कई जगह एक गांव से दूसरे गांव के बीच की दूरी में काफी खेत, खलिहान, पगडंडी, कच्ची पक्की सड़के आती हैं ऐसे गांवो में फाइनेंस का काम करने वाले एजेंट को पैसों की किस्त लेने के लिए ज्यादा दूरी कवर करनी पड़ती है और अक्सर शाम हो जाती है एवं सुनसान इलाकों से भी होकर जाना पड़ता है इसी बात का फायदा बदमाश किस्म के गलत प्रवृत्ति के लोग उठाते हैं।
कुछ समय पूर्व कोतवाली लक्सर में दो घटनाएं हुईं जहां सुनसान अकेले का फायदा उठाकर बदमाशों में लूट करी।
दिनांक 18.05.2024 को रोहित सैनी निवासी पंचेवली लक्सर के साथ अज्ञात तीन मोटर साइकिल सवार बदमाशों ने लूट की वारदात को अंजाम देते हुए जेवरात व नकदी रखा बैग छीन लिया और भाग गए।
दिनांक 20.05.2024 को फाइनेंस कम्पनी के कर्मचारी गजेन्द्र सिह निवासी हाथरस उत्तर प्रदेश की आंख में मिर्ची डालकर अज्ञात युवकों ने फाइनेन्स के एकत्रित किये रुपयों से भरा बैग, टैब व अन्य दस्तावेज लूट लिए और भाग गए।

लगातार हुई इन घटनाओं से क्षेत्र में भय व्याप्त हो गया जिस पर एसएसपी प्रमेन्द्र सिंह डोबाल द्वारा एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह एवं सीओ लक्सर निहारिका सेमवाल से प्रकरण के जल्द खुलासे हेतु आवश्यक कार्रवाई करने को कहा गया। जिस पर कोतवाली लक्सर पुलिस ने मैन्युअल एवं इलेक्ट्रॉनिक पुलिसिंग के आधार पर घटना में सम्मिलित तीनों आरोपियों (शुभम, अंकुश व मुकुल) को रायसी लक्सर रोड सैदाबाद तिराहा से दबोचकर तमंचे, कारतूस, लूटे गए जेवरात, नकदी, बैग, लूट के पैसों से खरीदी गई मोटरसाइकिल व अन्य दस्तावेज के साथ ही वारदातों में प्रयुक्त मो0सा0 को भी बरामद किया गया l

पकड़े गए आरोपितों में शुभम बी कोम अंकुश बारहवीं तथा मुकुल हाईस्कूल पास है। शुभम अपनी शैक्षिक योग्यता के आधार पर पहले भारत फाइनेन्स कंपनी में काम कर चुका था। फिलहाल तीनों में गहरी दोस्ती थी और सभी दोस्त बेरोजगार थे लेकिन अय्याश की जिंदगी जीने एवं नशे के खर्चों को पूरा करने के लिए मोटी रकम की बाट जोह रहे थे।
पूछताछ में इनके द्वारा बताया गया कि यह लोग सुनसान इलाके में कई दिन की रैकी करने के बाद आसान टारगेट ढूंढते हैं।
मास्टरमाइंड शुभम क्योंकि भारत फाइनेंस कंपनी में काम कर चुका था इसलिए उसको पता था कि गांव के दूर दराज के ग्रामीण इलाकों में कंपनी वाले केवल एक व्यक्ति को ही पैसा कलेक्ट करने के लिए भेजते हैं जिसको दूर दराज का इलाका होने के कारण अक्सर रात बे-रात हो जाती है और कलैक्शन भी अक्सर 50 हजार से डेढ़ लाख रुपए तक का हो जाता है ऐसे में इस तरह के लोगों का शिकार करना आसान काम है। इसके अलावा यह लोग सुनसान इलाके में अक्सर देर तक काम करने वाले शिकार की तलाश में रहते हैं। पूछताछ में इनके द्वारा बताया गया कि ये भविष्य में भी इस प्रकार की और घटनाएं करते।
इन तीनों दोस्तों ने पहले देर शाम दुकान बढ़ाकर घर जा रहे सुनार को अपना निशाना बनाया और फिर कलैक्शन लेकर लौट रहे फाइनेंस कर्मी को। अभियुक्त अंकुश व शुभम द्वारा माह फरवरी में गंगनहर क्षेत्र में भी एक व्यक्ति से नकदी व मोबाइल फोन लूटने की घटना की थी।सभी मामलों की क्लोज मॉनिटरिंग कर रहे एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह द्वारा जब पूरी घटना से आज मीडिया कर्मियों को वाक़िफ कराया तो लक्सर कोतवाली पुलिस की कार्यशैली की सभी के द्वारा सराहना की गया।

इस प्रकार की घटनाओं से बचने में यह सुझाव महत्वपूर्ण हो सकते हैं–
फाइनेंस कंपनी वालों को आसपास के कई गांव में पैसे कलैक्ट करने का दिन पहले से सुनिश्चित करते हुए इसकी सूचना संबंधित थाना कोतवाली में देनी चाहिए ताकि संबंधित क्षेत्र के बीट कांस्टेबल को पैसे कलेक्ट करने वाले एजेंट से बातचीत (आपसी परिचय) करवाया जा सके। जो वक्त बे-वक्त एक दूसरे के काम आ सकें।

फाइनेंस कंपनी को पैसे कलेक्ट करने वाले एजेंट की संख्या एक से बढ़ाकर दो करना बेहतर रहेगा भले ही उनका पैसा कलेक्ट करने का एरिया बढ़ा दिया जाए लेकिन सुरक्षा के दृष्टिकोण से यह एक बेहतर कदम हो सकता है।
स्थानीय लोगों को जितना संभव हो सके अपने घर, गांव, पंचायत, मुख्य मार्ग, गांव में एंट्री एग्जिट गेट में सीसीटीवी कैमरा अवश्य लगाना चाहिए ताकि कभी कोई घटना होने की स्थिति में सभी को सच्चाई की जानकारी प्राप्त हो सके।
जितना संभव हो सके सुनसान इलाकों में अकेले दुकान खोलने से बचें अथवा एक निश्चित समयावधि तक कार्य पूर्ण कर लें।
गांव में कोई संदिग्ध गतिविधि लगने पर सूचना संबंधित बीट कांस्टेबल अथवा थाना प्रभारी को दें।

विवरण आरोपित-
1- मुकुल पुत्र विरेन्द्र निवासी केहडा लक्सर हरिद्वार
2-शुभम पुत्र सुरेश निवासी ग्राम रोहालकी खानपुर हरिद्वार
3-नाम अंकुश पुत्र जोत सिंह निवासी रोहालकी खानपुर हरिद्वार

जिला हरिद्वार उत्तराखंड

 

संवाददाता मौ शहजान मलिक

Leave a Comment